तू रूठी तो मै रूठ जाऊंगा,

तेरी मोहब्बत मे मै लूट जाऊंगा ।

रूठना तुमने सिख लिया मेरा दिल तोड़के,

खुश है तू किसी और के साथ, नया रिश्ता जोड़के।

इतना गुस्सा किसलिए, किस बात की गुरूर है,

आपकी सेवा मे तो आपका ये हाजिर हुजूर है ।

भूझी – भूझी सी क्यों रहती हो हमसे,

रूठना है तो थोड़ा, ढंग से रूठो।