मुझे बस ये एक रात

love shayari - mujhe bas ye ek raat

मुझे बस ये एक रात नवाज दे,फिर उसके बाद सहर ना हो,मेरी तरस्ती रूह को लगा गले,की फिर बिछड़ने का डर ना हो । Dev … Read Full Shayari