सपने ऐसे देखो जो

सपने ऐसे देखो जो मंजिल की रहा दिखाये,
सपने नहीं जो दो वक्त की भी रोटी ना खिलाये,