संभाले नहीं संभालता है दिल

संभाले नहीं संभालता है दिल,
मोहब्बत की तपिश से ना जला,
इश्क तलबगार है तेरा चला-आ ,
अब जमाने का बहाना ना बना।