रुसवा करके चली

रुसवा करके चली गयी मेरी जिन्दगी से,
और मैं उसे देखता रहा बड़ी सादगी से,
एक पल के लिए ऐसा लगा वो आएगी,
फिर भी हम याद करते उसे बंदगी से,