राधा कृष्णा प्यार शायरी

राधा कृष्ण का मिलन तो बस एक बहाना था, 
दुनियाँ को प्यार का सही मतलब जो समझाना था।

दोस्तों आपको लोगो को पता हि है ,मोहब्बत और प्यार का सही मिशाल हमें किसने दिया ,जिसने बड़ी सिद्दत से मोहब्बत का रिश्ता निभाया हमें मोहब्बत करना सिखाया ,जो एक दुसरे से कितना प्यार् करते थे ,उनका का प्रेम दो आत्मा का मिलन था ,भले हि वो दोनों एक दूजे के हो ना सके ,मगर दुनिया को मोहब्बत का सही पाट पढाया ,जिसके दिलो में ,अंतर आत्मा में एक दुसरे के लिए इज्जत एक दुसरे के लिए सम्मन था ,आज हम प्यार मोहब्बत करते है ,दोस्तों लेकिन पहले सकल सूरत देखते है ,जैसे कोई बिजनेश डील करते है ,ऐसा लगता है ,हम भूल जाते है की मोहब्बत दो दिलो का मेल है,ना की जो जिस्मो का ,मोहब्बत सिर्फ नाम का नहीं होता दोस्तों ,दोस्तों मै ये नहीं कह रहा हु की ,आज का प्यार जिस्मो को देखता है,है इस दुनिया में सच्ची मोहब्बत ,तभी ये दुनिया चल रही है ,और कई लोग है ,जो भले हि अपनी मोहब्बत को पा ना सके मगर ,अपने प्यार के लिये जान भी दे दिये है ,दोस्तों मोहब्बत करो ,लेकिन एक दुसरे के मन से प्यार करो ,एक दुसरे के लिए प्यार सम्मन देखो ,एक सच्ची मोहब्बत की मिशल बनाओ ,भले हि अपने मोहब्बत को पा ना सको तो उसे रुसवा भी मत करो ,सिर्फ पा लेना हि मोहब्बत नहीं होता,दोस्तों आज कल हम देख रहे है ,कोई लड़का अगर किसी लड़की को इजहार करता है ,तो वो लड़की किसी मज़बूरी में या किसी परिशानी में या वो लड़की उस लड़के को पसंद नहीं करता तो,और इस वजह से इनकार कर देता ,है तो कई बदमाश लड़के ,उस लड़की की इज्जत से खेलते है ,कई ऐसा काम करते है ,जिससे मोहब्बत प्यार जैसे रिस्तो को बदनाम कर देते है,और मोहब्बत को रुशवा कर देते है,अरे मोहब्बत तो उस चिड़िया का नाम है ,जिसे प्यार का दाना चुगाया जता है ,ना की काँटों का ,धन्यवाद दोस्तों ….