नादानी शायरी हिंदी

हमें जल्दी थी दिल लगाने की,
उन्हें लगी थी भूख पड़ी थी खाने की,
हमने सरका दी अपनी प्लेट,
उन्होंने खा ली हद थी नादानी की.