मेरी माँ

मेरी खातिर तेरा रोटी पकाना याद आता है,
अपने हाथो को चूल्हे में जलाना याद आता है,
वो डाट डाट कर खाना खिलाना याद आता है,
मेरे वास्ते तेरा पैसा बचाना याद आता है….

दोस्तों भगवान् है या नहीं मै ये नहीं जानता मगर माँ के रूप में भगवान् है ये सभी जानते है हर माँ अपने बेटे की परी होती है और हर बेटा अपने माँ के लिए राजा होता है ,माँ की ममता कोई चीज नहीं है ये अमीरी गरीबी नहीं देखती जितना प्यार एक आमिर माँ अपने बेटे से करती है उतना हि प्यार एक एक गरीब माँ भी करती है,हं थोडा चीजे बदल जरुर जाती है ,गरीब माँ अपने बेटे की जरूरतों को पूरा करने के लिए अपना खून भी बेच देती है..

वैसे हि मेरी माँ है भले हि मै आज बड़ा हो गया हु पर माँ के लिए आज भी बच्चा हि हु,वो बच्चपन की यादे आज भी मेरे दिल में है जब वो कड़ी धुप में कम करके आती और मेर्रे नखरे सहती मेरे लिये खाना बनाती ,और जब मै खाने से इकार करता तो डाट डाट क्र खाना खिलाती राशन से पैसे बचा कर अपने आचल में बाँधी रहती और प्यार से मुझे कुछ खाने को देती माँ के बारे में जितना कहे उतना कम है दोस्तों