मौसम की मिशाल दु या तुम्हारी

mausam ki mishal du ya tumhari

मौसम की मिशाल दु या तुम्हारी,
कोई पुछ बैठा हैं बदलना किसको हैं।

Trending Shayari

#Love Shayari

आँखों मे ख्वाब दिया करते हैं, हम सबकी नींद चुरा लिया करते हैं, अब से जब-जब आपकी पलकें झुकेंगी, समझ लेना हम अपको याद किया करते हैं।

#Sad Shayari

सदीयो से जागी आँखो को, एक बार सुलाने आ जाओ, माना की तुमको प्यार नहीं, नफरत ही जताने आ जाओ जिस मोड पे हमको छोङ गये, हम बैठे अब तक सोच रहे क्या भुल हुई क्यों जुदा हुए, बस यह समझाने आ जाओ!

#Narazgi Shayari

ऐसी नाराजगी हमसे की हम मना ना सके, बस गयी मेरे दिल मे वैसी वो, की हम भुला ना सके, बस दर्द है, तो इस बात की, कितनी मोहब्बत थी इस दिल मे, हम बता ना सके।

More Posts