लहू देकर तिरंगे को बुलंदी

लहू देकर तिरंगे को बुलंदी को संवारा है,
फ़रिश्ते हो तुम वतन के तुम्हें सजदा हमारा है।