क्या कहु मुझे कितना रुलाती है

क्या कहु मुझे कितना रुलाती है ,
जब जब भी तुम्हारी यादआती है,
वो दिन कितने हसीन थे,
वही लम्हा फिर से बुलाती है.।