कुछ खत जो राह भटक गये थे

कुछ खत जो राह भटक गये थे,
कल मुद्दतों के बाद आये,
मेरे साथ तारों का हिसाब रखने वाले,
फिर बेहिसाब याद आये।