झुकी हुई पलकों से

झुकी हुई पलकों से उनका दीदार किया,
सब कुछ भुला के उनका इंतजार किया
वो जान ही न पाए जज्बात मेरे,
मैंने सबसे ज्यादा जिन्हें प्यार किया।

दोस्तों जिसे हम बहोत चाहते है ना कभी कभी उसे हमारा प्यार दिखाई भी नहीं देती ,कभी कभी किसी के प्यार में इस कदर खो जाते है ,की उसके सिवा कुछ दिखाई नहीं देती सब कुछ भुला कर हम उसी के खयालो में खोये रहते ,जिन्दगी का वो मकसद बन जाती है ,किसी के प्यार के लिए ,लेकिन जिससे जितना प्येर करो कभी कभी कोई काम का नहीं होता है ,बेजुबान नहो कर हम उससे अपन्ना प्यार दिखाते है और वो हमे समझ हि नहीं पाती वो अपने दिल की बात सुन हि नहीं पाती है ,कभी कभी जिससे हम सबसे जादा प्यार करते है ,वही हमारा प्यार नहीं समझते है .