जब से देखी तेरी एक झलक

जब से देखी तेरी एक झलक,
पूरी रात झपकाई नहीं पलक,
रात नींद ना आई शुबह तलक,
शुबह टुटा प्याला चाये गयी छलक,
दिल को सुकून नहीं आ रहा,
फिर देखू तुह्हे यही है ललक..

Ravindar Sudan

Leave a Comment