इश्क और दोस्ती मेरी जिंदगी की दो जहान हैं

इश्क और दोस्ती मेरी जिंदगी की दो जहान हैं
इश्क मेरी रूह और दोस्ती मेरी ईमान हैं ,
इश्क पे कर दु फिदा अपनी जिंदगी मगर,
दोस्ती पर तो मेरी इश्क भी कुर्बान हैं।

Leave a Comment