हम जुदा हुए थे फिर मिलने के लिए

हम जुदा हुए थे फिर मिलने के लिए,
ज़िंदगी की राहों में संग चलने के लिए,
तेरे प्यार की कशिश दिल में बसी है कुछ इस कदर,
दुवा है तेरे साथ मिले जरा संभलने के लिए॥