एक रात ही देखी अरसे से

एक रात ही देखी अरसे से,
उजाले तो जैसे रूठे हैं,
अब क्यूँ ये जिद है जीने की,
जब सारे सपने टूटे हैं।