दुश्मनों को सज़ा देने की

dushmano ko sja dene ki ek

दुश्मनों को सज़ा देने की एक तहज़ीब है मेरी,
मैं हाथ नहीं उठाता बस नज़रों से गिरा देता हूँ।

आज के समय में लोग अपने आप का दबदबा दिखने के किये कई तरह के डासिंग कपडे और पहने है , और आइसे कारनामे करते है की ,सच में उनसे डर लगे ,और इस समय लोग आपने आपको हिम्मतवाला दिखने के लिए ,कई आइसे कम करते है ,तो लोग भी कई फ़िल्में डैलोग मरते है की , वो कुछ करे या ना करे मगर उसके बातो में हि डर जाते है, तो एक ऐसा हि एक डैलोग है की वो कहता की उसका एक अपना स्टाइल दुश्मानो को डराने का उसका अपना एक रुल है ,वो अपने दुश्मनों से मर पिट नहीं करता दंगा फसाद नह्ही करते,उसके वो ऐसा करता है ,की वो कैसा भी शर्म पानी पानी हो जाता है , वो वही पर नजरो से गीर जाते है .

Trending Shayari

#Love Shayari

आँखों मे ख्वाब दिया करते हैं, हम सबकी नींद चुरा लिया करते हैं, अब से जब-जब आपकी पलकें झुकेंगी, समझ लेना हम अपको याद किया करते हैं।

#Sad Shayari

सदीयो से जागी आँखो को, एक बार सुलाने आ जाओ, माना की तुमको प्यार नहीं, नफरत ही जताने आ जाओ जिस मोड पे हमको छोङ गये, हम बैठे अब तक सोच रहे क्या भुल हुई क्यों जुदा हुए, बस यह समझाने आ जाओ!

#Narazgi Shayari

ऐसी नाराजगी हमसे की हम मना ना सके, बस गयी मेरे दिल मे वैसी वो, की हम भुला ना सके, बस दर्द है, तो इस बात की, कितनी मोहब्बत थी इस दिल मे, हम बता ना सके।

More Posts