दुश्मनों को सज़ा देने की

दुश्मनों को सज़ा देने की एक तहज़ीब है मेरी,
मैं हाथ नहीं उठाता बस नज़रों से गिरा देता हूँ।

आज के समय में लोग अपने आप का दबदबा दिखने के किये कई तरह के डासिंग कपडे और पहने है , और आइसे कारनामे करते है की ,सच में उनसे डर लगे ,और इस समय लोग आपने आपको हिम्मतवाला दिखने के लिए ,कई आइसे कम करते है ,तो लोग भी कई फ़िल्में डैलोग मरते है की , वो कुछ करे या ना करे मगर उसके बातो में हि डर जाते है, तो एक ऐसा हि एक डैलोग है की वो कहता की उसका एक अपना स्टाइल दुश्मानो को डराने का उसका अपना एक रुल है ,वो अपने दुश्मनों से मर पिट नहीं करता दंगा फसाद नह्ही करते,उसके वो ऐसा करता है ,की वो कैसा भी शर्म पानी पानी हो जाता है , वो वही पर नजरो से गीर जाते है .