कोरोना पर हिंदी शायरी

corona par hindi shayari

वो चैन से सो रहे है शहर बेच कर,
कोई सोहाग बचा रहे है जेवर बेच कर,
बाप ने उम्र गुजर दी घरोंदे बनाने में,
बेटा उसका सांसे बचा रहा है घर बेच कर,
बर्बाद हो गये कई घर दवा खरीदने में,
कुछ लोगो की तिजोरी भर गयी जहर बेच कर..

दोस्तों आज हमारे देश में कोरोना वायरस इस कदर सितम ढा रही की लोगो को अपनी जिन्दगी दुस्वार सी लग रही है लोग इस वायरस की वजह से एक वक्त के रोटी के लिए तरस रहे ,और आज वायरस के वजह से कोरोना मरीजो की संख्या इतनी बड गयी की लोग अपने संक्रमित लोगो के इलाज के लिए अपने घर अपने जेवर बेच कर भी अपनों के जान बचा नहीं पा रहे है..

दोस्तों कड़ी मेहनत करके एक गरीब मजदुर जिन्दगी भर की जमा पूजी से अपनों के लिए घर जमीन खरीद कर रखता है ,लेकिन आज ये नवबत आ गयी है की, उनके घर परिवार वाले सब कुछ बेच कर भी अपनों के एक पल सांसे भी नहीं दे पा रहे है, ये वक्त आ गयी है..

आज वायरस के वजह से कइयो के जिन्दगी और घर बर्बाद हो चुके ,अपनों के जान बचाते बचाते ,उनके पास एक वक्त की रोटी के पैसे भी नहीं बचे है और कई लोग है जो इस महामारी के समय हर किसी को एक दुसरे साथ की जरूरत है लेकिन ये लोग काले धंधे करके अपने तिजोरी भर रहे है.

Trending Shayari

#Love Shayari

आँखों मे ख्वाब दिया करते हैं, हम सबकी नींद चुरा लिया करते हैं, अब से जब-जब आपकी पलकें झुकेंगी, समझ लेना हम अपको याद किया करते हैं।

#Sad Shayari

सदीयो से जागी आँखो को, एक बार सुलाने आ जाओ, माना की तुमको प्यार नहीं, नफरत ही जताने आ जाओ जिस मोड पे हमको छोङ गये, हम बैठे अब तक सोच रहे क्या भुल हुई क्यों जुदा हुए, बस यह समझाने आ जाओ!

#Narazgi Shayari

ऐसी नाराजगी हमसे की हम मना ना सके, बस गयी मेरे दिल मे वैसी वो, की हम भुला ना सके, बस दर्द है, तो इस बात की, कितनी मोहब्बत थी इस दिल मे, हम बता ना सके।

#Friendship Shayari

किस हद तक जाना है ये कौन जानता है, किस मंजिल को पाना है ये कौन जानता है, दोस्ती के दो पल जी भर के जी लो, किस रोज़ बिछड जाना है ये कौन जानता है.!

#Attitude Status on Love

बिकने वाले और भी है, जाओ जा कर खरीद लो, हम 💰 ‘कीमत’ से नही ‘ ‘# KISHMAT’ से मिला करते है.

More Posts