शराबी आशिक

sharabi aashik par hindi shayari

दिल के दर्द से बड़ा कोई दर्द नहीं होता,
आशिकों का शराब के सिवा कोई हमदर्द नहीं होता,
जब दिल टूटता है तो आँसू उनके भी निकलते हैं,
जो कहते हैं कि “मर्द को दर्द नहीं होता..”

पी के रात को हम

pee ke rat ko hum

पी के रात को हम उनको भुलाने लगे;
शराब मे ग़म को मिलाने लगे;
ये शराब भी बेवफा निकली यारो;
नशे मे तो वो और भी याद आने लगे।

More Shayari

इश्क को यूं ही नहीं

ishk ko yun hi nahi dimag ki kharabi kahte hain

इश्क को यूं ही नहीं दिमाग की खराबी कहते हैं,मैं तेरे नशे मे रहता हूँ, मुझे लोग शराबी कहते हैं।

Wo Jiske Sir Chadhe

wo jiske sir chhade

Wo Jiske Sir ChadheUske Hothon Se Sab Sach Nikalta Hai,Aur Log Fir Bhi Usi Sharaab SeNaaraz Rehte Hain