टुटी कलम

टुटी कलम और, औरो से जलन,
खुद का भाग्य लिखने नहीं देती।

दोस्तों आपकी भाग्य आपकी किस्मत कितना भी आपका साथ दे ,जब आप दूसरों की तररकी से जलते है नया तो आपकी किस्मत आपकी कभी साथ नहीं देती आप दिनों दिन ऊपर से नीचे की आने लगते है ,हमे किसी कामयाब ईशान से नहीं जालना जालना चाहिए हमे उनसे सीखना चाहिए उसी प्रकार टूटी कलम से हम क्या कर सकते है वो हमारा कोई काम का नहीं राहत वो सिर्फ टास्पिन या किसी कोने मे फेक दिया जाता है।