बेवफा शायरी हिंदी

हर सितम सह कर कितने ग़म छिपाये हमने,
तेरी खातिर हर दिन आँसू बहाये हमने,
तू छोड़ गया जहाँ हमें राहों में अकेला,
बस तेरे दिए ज़ख्म हर एक से छिपाए हमने। ?

dosto कभी कभी प्यार में ऐसा होता है की दर्द हद से जादा गुजर जाती है और हम उन्ही के प्यार में जिन्दा रहते है कितना भी दर्द दे हम ऐसा दिखावा करते है की जैसे हमें कुछ हुआ हि ना हो ,छुप के आशुं बह लेते है पर किसी को पता होने भी नहीं देते ,और वो बेदर्द हमें रुलाता हि रहता है ,और हम छुप चाप उसके गम सहते हि रहते है ..

और हमें आइसे हि जिन्दगी भर रोने को छोड़ के चले जाते है फिर भी इस दर्द को छुपा कर जिन्दगी जीने में मजबूर हो जाते है जन्दगी भर कभी उप भी नहीं करते..