अनमोल वचन

” शिक्षा कहीं से भी मिले ग्रहण कर लेना चाहिए ,
शिक्षा निष्प्राण वस्तुओं से भी मिल सकती है। “

दोस्तों कहते है ना ज्ञान काही भी मिले ग्रहण कर लेना चाहिए ज्ञान लेने की कोई उम्र या सीमा नहीं रहता है काही किसी हाल मे मिले हमे ग्रहण कर लेना चाहिये शिक्षा आपको किसी भी रूप मे मिल सकता है ,अगर आप दारू के भट्टी पे हो और वह आपको जिंदगी से भारी ज्ञान मिल रहा हो ना तो हमे ले लेना चाहिए ,हमे ये नहीं सोचना चाहिए ,ये गलत जगह है तो ज्ञान भी गलत मिलेगा ,शिक्षा कही भी मिले हमेश सही ही होता है।।

दोस्तों शिक्षा एक ऐसे वस्तु है जो आपको छोटे बच्चे से गरीब भिखारी से मिल सकता है ,ये हमे कभी भी नहीं सोचना चाहिए की ,ये गलत आदमी है तो ज्ञान भी गलत ही देगा ,ऐसा नहीं है ,हमे कभी भी कही भी मिल सकता है दोस्तों ,धन्यवाद दोस्तों अपना प्यार हमेशा बना कर रखो ।।