आज हसंते हैं जो तुम पे, कल मिलने को तरसेगे,

आज हसंते हैं जो तुम पे,
कल मिलने को तरसेगे,
कांटे बने हैं जो आज आपके रास्ते में,
कल फूल बनके बरसेगे