- Hindi Shayari

Hindi Shayari

Hindi Shayari गोलियों की बारिश में भुजती नही नफरत की आग कुछ सपने बिखर जाते है हमेशा के लिए, बढ़ जाती है और नफरत की आग और भी जिसमे कही घर जलते है कही सब जलते है ” Written By – Manjeet