- Love Shayari

Love Shayari In Hindi – Mohabbat Hi Kafi Nahi……

Love Shayari In Hindi – Mohabbat Hi Kafi Nahi……
Mohabbat hi kafi nahi mohabbat paane ke liye
Wo aur bahut kuch maangte hein dil lagaane ke liye
Wo zood daanistah yun ho gaye kisi aur ke
Hum muddat se tarse jinhe apna banaane ke liye…
Jurrat thi itne ki aashiyana bana lete falak par
Magar tinke na mile wo nasheman banane ke liye
Kufr-e-Mohobbat ka gam maut se kam to nahi
saansein rukna hi zaruri to nahi mar jaane ke liye
Gam-e-ulfat na ho mukhatib e nasih
Abhi kuch waqt aur lagega honsh me aane ke liye
Nigahon ke berukhi se chere ki khafgi achchi
Yun dono adaayein hein unki dil jalaane ke liye
Dhadkanon ka sabab jo ban gayi kisi ki yaad
Karein bhi kaushish kaise ‘Gumaiz’ unhein bhulaane ke liye
__________________________________________
मोहब्बत ही काफी नहीं मोहब्बत
पाने के लिए
और बहुत कुछ मांगते हैं वो दिल
लगाने के लिए
वो जूद दानिस्ता यूँ हो गए
किसी और के
हम मुद्दत से तरसे जिन्हें
अपना बनाने के लिए…
जुर्रत थी इतनी आशियाना बना
लेते फलक पे
मगर तिनके न मिले वो नशेमन
बनाने के लिए
कुफ्रे- मोहाबत का गम मौत से कम
तो नहीं …
साँसे रुकना ही ज़रूरी तो नहीं
मर जाने के लिए
गम – ए- उल्फत में न हो मुखातिब ऐ
नासेह
अभी कुछ वक़्त और लगेगा होंश
में आने के लिए
निगाहों की बेरुखी से चेहरे
की खफगी अच्छी
यूँ दोनों अदाएं हैं उनकी दिल
जलाने के लिए
धडकनों का सबब जो बन जाए किसी
की याद
करें भी कौशिश कैसे ‘गुमेज़’
उन्हें भुलाने के लिए
Written By – Pawan Chandaliya

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *